सांचौर में धींगपुरा में टेल तक पानी पहुंचाने की मांग को लेकर नर्मदा विभाग के समक्ष भूख हड़ताल तीसरे दिन जारी

सांचौर। रबी की सीजन में पानी की मांग को लेकर धींगपुरा के किसानों का नर्मदा नहर परियोजना विभाग के समक्ष भूख हड़ताल तीसरे दिन जारी। नर्मदा नहर में सिंचाई के लिए पानी छोड़ा था, लेकिन अभी तक टेल के किसानों को पानी नहीं मिल रहा है। इसको लेकर सांचौर व चितलवाना दोनों क्षेत्रों के किसानों में रोष गहरा गया है। इधर, धींगपुरा के किसान लगातार पानी की मांग को लेकर नर्मदा नहर परियोजना विभाग के समक्ष आमरण अनशन व धरना प्रदर्शन कर रहे हैं, जिसके बाद भी पानी टेल तक नहीं पहुंच पा रहा है। नर्मदा नहर परियोजना के समक्ष भाजपा नेता दानाराम चौधरी के नेतृत्व में किसानों को आमरण अनशन व धरना तीसरे दिन भी जारी रहा। वहीं मांगों को लेकर किसानों ने पानी की मांग को लेकर प्रदर्शन कर ज्ञापन सौंपा। ऐसे में विभाग की ओर से धींगपुरा के किसानों को पानी नहीं मिलने से टेल के किसान सिंचाई नहीं कर पा रहे हैं। पानी की मांग को लेकर किसानों का धरना-प्रदर्शन जारी है। इस दौरान किसानों ने बताया कि विभाग के कार्यालय जाने पर अधिकारी उनकी सुनवाई नहीं कर रहे हैं। किसानो का आरोप है कि विभाग की ओर से तैयार की गई अधिकांश डिग्गियां आज भी अधूरी पड़ी हैं। किसानों ने बताया कि नर्मदा विभाग की ओर से नहर की वितरिकाओं में टेल तक पानी नहीं छोड़ा जा रहा है। जिसके कारण लोगों को परेशान होना पड़ रहा है। किसानों के खेतों में हजारों हेक्टयर में खड़ी फसल बर्बाद हो रही है, लेकिन टेल तक पानी नहीं छोड़ा जा रहा है। भाजपा नेता दानाराम चौधरी ने कहा कि नर्मदा विभाग के अधिकारियों की लापरवाही के कारण पानी किसानों को नहीं मिल पा रहा है। उन्होंने कहा कि किसानों के साथ किसी प्रकार का अन्याय नहीं होने दिया जाएगा, जिसको लेकर बड़े स्तर पर धरना प्रदर्शन भी करेंगे। किसानों ने बताया कि टेल तक पानी नहीं पहुंच पा रहा है। इससे फसल की सिंचाई नहीं हो पा रही है। सिंचाई के अभाव में फसल खराब हो रही है। इस दौरान पूर्व विधायक जीवाराम चौधरी, भाजपा वरिष्ठ नेता मोतीराम चौधरी, किसान नेता छोगाराम चौधरी, दुर्गाराम चौधरी, नरपतसिंह अरणाय, सवाराम पुरोहित ने धरने को सम्बोधित किया। इस मौके पर अमराराम, रमेश कुमार, विक्रमकुमार, खंगाराम, सवजीराम, वरजांगाराम, ओखाराम, कुम्भाराम, धनाराम, सोमाराम, मोडाराम, भगाराम, पृथ्वीराज, मालाराम, भंजनलाल, कमलेश कुमार, कवराराम, देवाराम, हरखाराम, अन्नाराम, मांगीलाल सहित बड़ी संख्या में किसान मौजूद थे।
यह बैठे भूख हड़ताल पर
नर्मदा नहर परियोजना विभाग के समक्ष किसानों की भूख हड़ताल तीसरे दिन भी जारी रही। इस दौरान भूख हड़ताल के पहले दिन उमाराम मेघवाल, दिनेश सैन, मगाराम मेघवाल, रवजीराम चौधरी वहीं दूसरे दिन धुडाराम सैन, लखामाराम, जोगाराम, कुम्भाराम, ईशराराम कोली व नागजीराम, आमरण अनशन पर बैठें। इस दौरान बड़ी संख्या में किसान धरने पर बैठे हुए है।
विभाग की लापरवाही किसानों पर भारी
नर्मदा नहर के अधिकारियों की लापरवाही किसानों पर भारी पड़ रही है। किसानों ने खेतों को तैयार कर बीज बो दिए। लेकिन नर्मदा नहर के अधिकारियों की लापरवाही से किसानों को पानी नही मिल रहा है। कई बार विभाग के अधिकारियों ने टेल तक पानी छोडऩे की मांग की गई लेकिन अधिकारियों का एक ही रटा-रटाया जवाब मिलता है कि एक दो दिन में पानी आ जाएगा।
बारी के बावजूद नहीं मिला पानी
नर्मदा विभाग की ओर से पानी वितरण को लेकर पूर्ण रूप से मॉनीटरिंग तक नहीं की जा रही है। जिससे विभागीय अधिकारियों द्वारा मनमर्जी से ही पानी छोड़ा जा रहा है ऐसे में किसानों ने विरोध जताते हुए समय पर पानी देने की मांग की। वहीं विभागीय अधिकारियों के खिलाफ रोष जताया।