नर्मदा विभाग ने नर्मदा नहर व खेतों से मशीनें व पाईप हटाए, इधर किसानों ने किया प्रदर्शन

सांचौर। क्षेत्र में नर्मदा नहर परियोजना के अधिकारियों ने मंगलवार को टीम के साथ जाकर किसानों के मशीनें व अवैध पाइप हटाए। मंगलवार को विभाग ने चौरा, अरणाय, धानता, भूरा की ढाणी, कारोला, लाछड़ी, जाजूसन, गरडाली, माखुपुरा सहित कई गांवों से जेसीबी की सहायता से किसानों के इंजन व पाईप हटाए गए। रबी की फसल के नियमित जलापूर्ति व किसानों के हिस्से पानी देने व विभाग द्वारा पंप व पाइप हटानेे के विरोध में किसानों ने नर्मदा विभाग पर धरना प्रदर्शन कर विरोध जताया। वहीं किसानों के इंजन व पाईप लाकर विभाग के कार्यालय के बाहर रख दिए। इसके बाद किसानों ने पूर्व विधायक जीवाराम चौधरी के नेतृत्व में बुधवार को नर्मदा नहर परियोजना विभाग में पहुंच कर प्रदर्शन किया। तथा आक्रोशित किसानों ने प्रदर्शन कर उपखंड मुख्यालय पर पहुंच कर उपखंड अधिकारी को ज्ञापन सौंपा। विभाग के अधिकारियों के खिलाफ प्रदर्शन कर ज्ञापन सौंपा। वहीं किसानों ने ज्ञापन में बताया कि सांचौर लिफ्ट कैनाल की शुरूआत 2008 में हुई तब से वर्ष 2018 तक किसान जो लिफ्ट कैनाल के नजदीय थे उन्होंने अपने खेतों तक स्वयं के खर्चे से इंजन व पाइप लाईन डालकर रबी की फसल की सिंचाई शुरू कर दी आज दिन तक यहीं सिंचाई की प्रक्रिया सुचारू रूप से चल रही थी। अब वर्ष 2019 की रबी सीजन से जब किसानों ने अपने खेतों में बुवाई कर दी है लेकिन प्रशासन जबरन उनके पाईप लाईनों एवं इंजनोंं को तोडफ़ोड़ कर रहे है। जिससे किसान कर्ज के बोझ तले दब रहे है। गत वर्ष की तरह इस बार भी नर्मदा नहर विभाग द्वारा नहर में कम पानी छोडऩे के कारण किसानों बार-बार प्रताडि़त किया जा रहा है। समस्या की गंभीरता को देखते हुए इस वर्ष की रबी सीजन हेतु नगर नहर परियोजना प्रशासन द्वारा पर्याप्त मोटरें सुचारू रूप से चलवाकर किसानों को इस रबी सीजन में पानी लेने दिया जाए। ज्ञापन में बताया कि नर्मदा विभाग प्रशासन के द्वारा मंगलवार को किसानों की मशीनें, मोटरें, पाईप लाईन, सेक्शन, पंखे बेवजह तोड़कर किसानों का नुकसान किया गया है। जिसको लेकर बुधवार को किसानों ने नर्मदा नहर परियोजना कार्यालय के समक्ष प्रदर्शन किया। इस दौरान बड़ी संख्या में किसान मौजूद थे।
किसानों ने किया प्रदर्शन
मंगलवार को विभाग की ओर से नर्मदा नहर से मशीनें व पाइप हटाने के बाद बुधवार को नर्मदा नहर परियोजना कार्यालय में पहुंच कर किसानों ने प्रदर्शन किया। वहीं विभाग की ओर से हटाई गई मशीनों व पाइप को लेकर उपखंड मुख्यालय पर पहुंच कर आक्रोशित किसानों ने विरोध जताते हुए विभागीय अधिकारियों के खिलाफ नारेबाजी कर रोष जताया। वहीं किसान मशीनें व पाइप वापस लेने की मांग पर अड़े रहे। जिस पर जनप्रतिनिधियों ने किसानों की मशीनें व पाइप वापस देने की मांग की। जनप्रतिनिधियों ने किसानों को टेल तक समय पर पानी देने एवं मशीनें व पाइप वापस देने की मांग की। इस दौरान उपखंड मुख्यालय पर पहुंच किसानों ने उपखंड अधिकारी को ज्ञापन सौंपा।
धरना प्रदर्शन करने की दी चेतावनी
विभाग की ओर से टेल तक पानी देने एवं किसानों की मशीनें व पाइप वापस देने की मांग को लेकर जनप्रतिनिधियों ने उपखंड मुख्यालय पर पहुंच कर उपखंड अधिकारी को ज्ञापन सौंपा। तथा जनप्रतिनिधियों ने उपखंड अधिकारी भूपेन्द्र कुमार यादव को कहा कि किसानों को समय पर टेल तक पानी दिया जाए तथा किसानों की जब्त की गई मशीनें व पाइप वापस दिया जाए। जिसको लेकर पूर्व विधायक जीवाराम चौधरी ने किसानों की मांगे पूरी नहीं होने पर उपखंड मुख्यालय के समक्ष भूख हड़ताल व धरना प्रदर्शन करने की चेतावनी दी।