टेल तक पानी पहुंचाने की मांग पर अड़े किसान, वार्ता विफल, धींगपुरा के किसानों की भूख हड़ताल चौथें दिन जारी


-उपखंड अधिकारी यादव ने की भूख हड़ताल पर बैठेें किसानों से वार्ता
सांचौर। रबी की सीजन में सूकड़ी वितरिका, आकोडा माईनर, धींगपुरा माईनर व मुख्य बालेरा वितरिका में टेल तक नर्मदा नहर का पानी पहुंचाने की मांग को लेकर नर्मदा नहर परियोजना विभाग के समक्ष भूख हड़ताल चौथे दिन व धरना जारी रहा। इस दौरान गुरूवार सुबह डॉक्टरों की टीम ने धरना स्थल पर पहुंच भूख हड़ताल पर बैठे किसानों की जांच की। जिसके बाद किसानों के स्वास्थ्य में गिरवाट आई। भाजपा नेता दानाराम चौधरी के नेतृत्व में धींगपुरा के किसानों ने टेल तक पानी पहुंचाने की मांग को लेकर भूख हड़ताल जारी रही वहीं गुरूवार को सुबह उपखंड अधिकारी भूपेन्द्र कुमार यादव ने धरना स्थल पर पहुंच कर धरनार्थियों से वार्ता की। इस दौरान किसान टेल तक पानी पहुंचाने की मांग पर अड़े रहे। इस दौरान उपखंड अधिकारी यादव ने नर्मदा नहर परियोजना के अधिकारियों से पानी टेल तक पहुंचाने के निर्देश दिए। इस दौरान किसानों ने कहा कि टेल तक पानी पहुंचाने के बाद ही भूख हड़ताल समाप्त करने की बात कहीं। इस दौरान किसानों ने मांगों को लेकर उपखंड अधिकारी को ज्ञापन सौंपा। ज्ञापन में बताया कि ग्राम धींगपुरा जो नेहड़ क्षेत्र में स्थित है, भू. तल का पानी खारा है, सिंचाई का एकमात्र जरिया नर्मदा नहर है। ग्रामीणों द्वारा डिग्गियों की समस्त डिमांड राशि भी जमा करवाए दो साल हो गए हैं, किन्तु रबी की सीजन में एक बूंद भी पानी आज दिन तक नहीं मिला है। इसको लेकर विभाग कोई कार्रवाई नहीं कर रहा है। ज्ञापन में बताया कि बालेरा माइनर की आज दिन सफाई तक नहीं की गई है। नर्मदा नहर के अधिकारियों द्वारा वारा सिस्टम करने पर 72 घंटा का वारा व उससे अधिक किया जाकर हमें हमारे हिस्से का पानी पूरा दिलवाया जावे तथा टेल तक पानी पहुंचाया जावे। हमें नियमित रूप से पानी दिया जावे, तथा जब तक टेल तक पानी नहीं पहुंचे तब तक पिछें के गांवों के लोगोंं को अवैध मोटरे व इंजन को तथा पाइपों से पानी का स्थगन करने वालों को रोका जावे, बालेरा वितरिका का पानी टेल तक पहुंचाने की मांग की। पूर्व में विभाग द्वारा किया गया वारा सिस्टम का पानी नही पहुंचा है उस वारा का पानी भी दिया जावे तथा आकोडा माईनर, धींगपुरा माईनर व मुख्य बालेरा वितरिका में डिग्गी नम्बर 29 व 35 व टेल तक रेगूलर पानी तथा नहरों की संपूर्ण रूप से सफाई करवाई जाए, पूर्व में विभाग द्वारा आश्वासन दिया गया था कि बुधवार तक टेल तक पानी पहुंचाया जाएगा लेकिन अभी तक पानी नही पहुंचा जो वारा का पानी जल्द से जल्द पहुंचाया जावे। किसानों ने बताया कि जब तक सूकड़ी वितरिका, आकोडा माईनर, धींगपुरा माईनर व मुख्य बालेरा वितरिका में टेल तक पानी पहुंचाने की मांग को लेकर भूख हड़ताल व धरने पर रहेंगे। इस दौरान भाजपा वरिष्ठ नेता मोतीराम चौधरी, दुर्गाराम चौधरी, मिलापचंद कानूंगों, राजेन्द्रसिंह परावा, भगाराम, पृथ्वीराज, मालाराम, भंजनलाल, कमलेश कुमार, कवराराम, देवाराम, हरखाराम, अन्नाराम, मांगीलाल, माधाराम, मालाराम, सेनसिंह, सेलगर स्वामी सहित बड़ी संख्या में किसान मौजूद थे।
किसानों और एसडीएम के बीच वार्ता विफल
टेल तक पानी पहुंचाने की मांग पर को लेकर नर्मदा नहर परियोजना के समक्ष किसानों की भूख हड़ताल चौथें दिन जारी रही वहीं गुरूवार सुबह को उपखंड अधिकारी भूपेन्द्र कुमार यादव ने धरना स्थल पर पहुंच कर किसानों से वार्ता की। इस दौरान किसान अपनी मांग पर अड़े रहे। इस दौरान नर्मदा अधिकारियों द्वारा उपेक्षा करने का आरोप लगाया। इस दौरान सहमति नहीं होने पर वार्ता विफल हो गई।
डॉक्टरों की टीम ने किसानों की स्वास्थ्य जांच
डॉक्टरों की टीम पहुंचने के बाद सभी अनशन पर बैठने वालों की जांच की गई। प्रशासन द्वारा नियुक्त सरकारी अस्पताल की टीम धरना स्थल पर पहुंच और उसके बाद ही अनशन पर बैठे किसानों की मेडिकल जांच की गई। भूख हड़ताल पर बैठें किसानों में से चार जनों के स्वास्थ्य में गिरावट दर्ज की गई है। डॉक्टरों ने बताया कि भोजन और पानी की कमी के कारण ऐसा हुआ है। डॉक्टरों की टीम ने ड्रिप लगाने की सलाह दी, लेकिन किसानों ने मना कर दिया। उन्होंने कहा कि टेल तक पानी पहुंचाने की मांग पूरी नहीं होगी तब तक हम अनशन पर बैठे रहेंगे।
यह बैठें भूख हड़ताल पर
नर्मदा नहर परियोजना विभाग के समक्ष किसानों की भूख हड़ताल चौथें दिन जारी रही। वहीं इस दौरान भूख हड़ताल पर पहले दिन उमाराम मेघवाल, दिनेश सैन, मगाराम मेघवाल, रवजीराम चौधरी वहीं दूसरे दिन धुडाराम सैन, लखामाराम, जोगाराम, कुम्भाराम, ईशराराम कोली व नागजीराम का आमरण अनशन चौथें दिन जारी रहा। वहीं आमरण अनशन पर बैठें किसानों की तबीयत बिगड़ती जा रही है। इस दौरान बड़ी संख्या में किसान धरने पर बैठे हुए है।