टिड्डियां चट कर रही फसलें, वन मंत्री विश्नोई पहुंचे मौके पर, टिड्डी दल का गांवों में हमला जारी,

सांचौर। क्षेत्र के गांवों में टिड्डी का कहर खत्म नहीं हो रहा है। कई दिनों लगातार हो रहे टिड्डी दल के हमले से किसान परेशान है। लगातार टिड्डी दल के आने से किसानों की बच्ची खुशी उम्मीदों पर भी मंगलवार को पानी फेर दिया। अचानक टिड्डियां के हमले से क्षेत्र के किसानों में हडकंप मच गया। किसानों ने टायर जलाकर थाली, डिब्बे, ढोल बजाकर टिड्डियों को उड़ाने प्रयास करते नजर आए, लेकिन जहां भी टिड्डियों ने पड़ाव डाला, वहां पूरा खेत साफ कर दी। क्षेत्र के गांवों में टिड्डी दल ने मंगलवार को हमला कर दिया। किसानों में हड़कंप सा मच गया। टिड्डी दल ने लालजी की डूंगरी सहित आसपास के गांवों में जीरे की फसल चौपट कर दी है। हालात काबू पाने के लिए प्रशासनिक अधिकारियों ने टिड्डी प्रभावित गांवाों में पहुंच कर मोर्चा संभाला। वहीं स्प्रे का छिड़काव किया जा रहा है। गौरतलब है कि कुछ दिनों से टिड्डी दल ने क्षेत्र के किसानों की फसलों को चट कर दिया था। वहीं एक बार फिर टिड्डी दल के पड़ाव से बची हुई जीरे व गेंहू की फसल को लेकर किसानों को चिंता सता रही है। इधर, सूचना मिलते ही वन एवं पर्यावरण राज्यमंत्री सुखराम विश्नोई ने पूर्व निर्धारित दौरे को छोड़ कर टिड्डी प्रभावित क्षेत्र में पहुंचे। साथ ही प्रशासन व राहत दल के साथ टिड्डी नियत्रंण की योजना बनाई। जिसके बाद किसानों व प्रशासनिक अधिकारियों ने ट्रैक्टर लेकर टिड्डी दल पर छिड़काव किया गया। बड़ी संख्या में पहुचे टिड््डी दल ने किसानों की चिंता बढ़ा दी है। किसान लगातार खेतों में पटाखें छोड़कर, पीपे, ढोल, थाली बजाकर अपनी उम्मीदों को बचाने की जुगत में लगे हुए है। लालजी की डूंगरी सहित आसपास के खेतों में जमकर तबाही मचाई और खेतो को खाली कर दिया, जिससे किसानों में मायूसी छा गई। दूसरी ओर किसानों ने टिड्डियों से बचाव के लिए खेतो में धुंआ करने के साथ तेज ध्वनी व फव्वारे चालू कर टिड्डियों से बचाव को लेकर कई जतन किए, लेकिन फिर भी टिड्डीयों से फसलों को नहीं बचाया जा सका। जिधर देखो खेतों में किसानों का पूरा परिवार जिसमें महिलाएं, बच्चे व बुजुर्ग थालियां बजाते नजर आए। किसानों की खड़ी फसलों के साथ साथ टिड्डियां पशुधन के लिये उगे चारागाहों को भी चट कर रही है। ऐसे में किसानों व पशुपालकों के लिये ये टिड्डियां परेशानी का सबब बनी हुई है।
वन मंत्री विश्नोई ने दौरा किया निरस्त
क्षेत्र के गांवों में टिड्डी दल के हमले की सूचना मिलने पर वन एवं पर्यावरण राज्यमंत्री सुखराम विश्नोई ने पूर्व निर्धारित दौरे को छोड़ कर टिड्डी प्रभावित क्षेत्र में पहुंचे। मंत्री विश्नोई दौरे को बीच में छोड़कर गांवों में पहुंचे जहां टिड्डी दल द्वारा हमला किया जा रहा है था वहां पर मौके पर पहुंच प्रशासनिक अधिकारियों से जानकारी ली। वहीं मंत्री विश्नोई ने टिड्डी विभाग व स्थानीय किसानों से ट्रैक्टरों को अर्लट कर दिया। जिससे उन्होंने कहा कि किसानों की हर संभव मदद की जाए।
यहां पहुंचा टिड्डी दल
खेतों, पेड़ों की टहनियों, कंटीली झाडियों पर बैठे टिड्डी दल को किसानों ने भगाने के लिए धुआं, ढोल, पटाखों से जतन करते दिखे। शोर-शराबे के बीच दोपहर बाद धीरे-धीरे उड़ान भरने लगी। क्षेत्र के गांवों में टिड्डी दल का हमला लगातार जारी है। वहीं मंगलवार को क्षेत्र के लालजी की डूंगरी सहित आसपास के गांवों में पड़ाव डाला। जिसमें लालजी डूूंगरी से होते हुए खामराई, कोलियों की बेरी, केआर बंधा कुंआ, हनुवंतपुरा, कुंभीया, टांपी सहित आसपास के गांवों में किसानों के खेतों में पहुंच कर फसलों को चट कर दिया। किसान लोहे के डिब्बें एवं थालियां बजाकर टिड्डी दल को उड़ाने में प्रयास कर रहे है। लेकिन टिड्डी दल का पड़ाव होने से किसानो की लाखों रूपए की फसलें चौपट होने का अंदेशा है।

अधिकारी सम्पर्क समाधान शिविर के मामलों का शीघ्र ही निपटारा करें : कलक्टर सोनी


जिला स्तरीय सम्पर्क समाधान शिविर में जिला कलक्टर ने सुनी परिवेदनाएँ
जालोर। जिला कलक्टर महेन्द्र सोनी ने गुरूवार को भारत निर्माण राजीव गांधी सेवा केन्द्र में जिला स्तरीय सम्पर्क समाधान शिविर में आमजन की परिवेदनाओं को व्यक्तिशः सुना तथा सम्बन्धित अधिकारियों को निर्देशित किया कि वे सम्पर्क समाधान के तहत प्रस्तुत होने वाले मामलों में त्वरित गति से मामलों का निपटारा कर परिवादियों का राहत प्रदान करें। जिला स्तरीय भारत निर्माण राजीव गांधी सेवा केन्द्र में गुरूवार को जिला कलक्टर महेन्द्र सोनी के समक्ष आयोजित शिविर में 23 व्यक्तियों ने अपनी परिवेदनाओं को रखा जिनमें मौके पर उपस्थित अधिकारियों व पंचायत समितियों के सेवा केन्द्रों से संबंधित अधिकारियों से सीधे संवाद करते हुए। उन्हांने कहा कि सम्पर्क समाधान शिविर में प्रस्तुत होने वाले मामलों में किसी भी स्तर पर विलम्ब नहीं करें तथा जरूरतमंद व्यक्ति की समस्याओं का समाधान कर उन्हें राहत प्रदान करें। उन्होंने आहोर के तहसीलदार को निर्देश्ति किया कि सम्पर्क समाधान में सामान्यत आहोर तहसील क्षेत्र के सर्वाधिक अतिक्रमण हटाने से सम्बन्धित मामले आ रहे हैं इसलिए वे पूरे तहसील क्षेत्र में विशेष अभियान चलाकर राजकीय भूमियों पर हुए अतिक्रमणों को हटायें। शिविर में राजस्व, नगरीय निकाय, कॉपरेटिव बैंक, विद्युत, पुलिस, वन विभाग, रसद, शिक्षा, सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता विभाग एवं ग्रामीण विकास एवं पंचायतीराज विभाग आदि से सम्बन्धित 23 व्यक्तियों ने अपनी परिवदेनाएँ प्रस्तुत की। वही जनसुनवाई में जिला स्तरीय सतर्कता समिति की भी बैठक सम्पन्न हुई जिसमें दर्ज 7 मामलों की समीक्षा के उपरान्त 2 प्रकरणों का निराकरण किया गया। शिविर में अतिरिक्त जिला कलक्टर छगनलाल गोयल, मुख्य कार्यकारी अधिकारी अशोक कुमार, डिस्कॉम के अधीक्षण अभियन्ता सी.एस. मीना, अधिशाषी अभियन्ता हेमन्त संकलेचा, जलदाय विभाग के अधिशाषी अभियन्ता आशीष द्विवेदी, मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. गजेन्द्रसिंह देवल, मुख्य जिला शिक्षा अधिकारी अशोक कुमार तथा जिला परिवहन अधिकारी प्रेमराज खन्ना सहित विभिन्न जिला स्तरीय अधिकारी उपस्थित थे।

सांचौर थानाधिकारी चारण ने रक्तदान कर बचाई पीडि़त की जान


-राजकीय सेवा के साथ साथ मानवसेवा में भी दे रहें योगदान
सांचौर। क्षेत्र में मानवसेवा को समर्पित लाल बून्द जीवनदाता सेवा समिति जो इमरजेंसी में रक्त की जरूरत के समय हर वक्त पीडि़तों के लिए मसीहा बन रही है। प्रदेशाध्यक्ष संजय बिश्नोई ने बताया कि रविवार को क्षेत्र के निजी अस्पताल में भर्ती एक्सीडेंट पीडि़त को बी पॉजिटिव खून की आवश्यकता थी। इस पर परिजनों द्वारा समिति से संपर्क करने पर पुलिस थानाधिकारी कैलाशदान चारण ने तुरंत अस्पताल पहुंचकर रक्तदान किया। समिति सदस्य कॉन्स्टेबल ड्राइवर दिनेश सियाक व श्याम चौधरी ने बताया कि थानाधिकारी कैलाशदान चारण द्वारा अपने राजकीय कार्य को छोड़कर बिना देर किए रक्तदान किया है जो अपने आप में एक अनुकरणीय कार्य है। कैलाशदान चारण मूलत: बज्जू बीकानेर निवासी है जो मानवीय इस कल्याणार्थ कार्य में हर समय रुचि रखकर जरूरतमंदों के लिए मददगार साबित हो रहे है। प्रदेश सचिव लाडूराम पंवार व कोषाध्यक्ष सुरेश कांवा ने बताया कि हमें ऐसे रक्तवीरों से प्रेरणा लेकर रक्तदान के लिए हर समय तैयार रहना चाहिए जिसके कारण जरूरतमंद को समय पर रक्त मुहैया हो सके।

समाज निर्माण के लिए शिक्षक का दायित्व महत्वूपर्ण, राजस्थान शिक्षक संघ प्रगतिशील का 59 वां प्रदेश शैक्षिक सम्मेलन सम्पन्न


सांचौर। राजस्थान शिक्षक संघ प्रगतिशील का दो दिवसीय 59 वां प्रदेश शैक्षिक सम्मेलन का समापन समारोह का आयोजन स्थानीय राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय परिसर में प्राचार्य हिंमाशु पंडिया के मुख्य आतिथ्य में एवं राजस्थान शिक्षक संघ प्रगतिशील के प्रदेशाध्यक्ष वन्नाराम चौधरी की अध्यक्षता में तथा नगर पालिका नेता प्रतिपक्ष बीरबल विश्नोई, पुलिस उपाधीक्षक अनिल सारण के विशिष्ठ आतिथ्य में किया गया। इस दौरान सम्मेलन में वक्ताओं ने शिक्षकों की विभिन्न समस्याओं को उठाया। इस दौरान समापन समारोह को सम्बोधित करते हुए प्राचार्य हिंमाशु पंडिया ने कहा कि आज हमें सार्वजनिक शिक्षा को बचाना होगा, हमें देश में साम्प्रदायिक शक्तियों से लडऩा होगा, शिक्षक ने हमेशा समाज का पथ प्रदर्शक किया है, हमें संगठित होकर हमारी ज्वंलत समस्याओं को लेकर संघर्ष करना होगा। पुलिस उपाधीक्षक अनिल सारण ने कहा कि हमें विद्यालयों में अभाव में प्रभाव दिखाकर ग्रामीण क्षेत्रों में गरीब व किसानों तथा मजदूरों के बच्चों को आगे बढ़ाने का संकल्प लेना होगा। संगठन के प्रदेशाध्यक्ष वन्नाराम चौधरी ने 59 वें प्रदेश सम्मेलन के भव्य आयोजन के लिए जिला शाखा जालोर का आभार जताते हुए कहा कि हमारा संगठन आगामी दिनों में एनपीएस को लेकर जोरदार संघर्ष का आगाज करेंगा। हमें इस आंदोलन को मजबूति प्रदान करना होगा। संगठन के मुख्य महामंत्री पूनमचंद विश्नोई ने कहा कि राज्य सरकार द्वारा शिक्षकों को केन्द्र के अनुरूप मंहगाई भत्ता नहीं देने पर आक्रोश करते हुए सरकार को चेतावनी देते हुए कहा कि समय रहते डीए की घोषणा नहीं की तो आगामी पंचायत चुनाव में कांग्रेस सरकार को इसका परिणाम भूगतना पड़ेगा। जिलाध्यक्ष किशनलाल सारण ने कहा कि सम्मेलन में राजस्थान भर से हजारों शिक्षकों की भागीदारी रही एवं दो दिवसीय सम्मेलन में जिन साथियों ने प्रत्यक्ष-अप्रत्यक्ष रूप से सहयोग किया संगठन उनका आभार व्यक्त करता है। उन्होंने कहा कि हमें राज्य सरकार की शिक्षा विरोधी नीति का विरोध करना होगा। शिक्षा विद् जोगाराम सुथार ने कर्मचारियों के आंदोलन के फलस्वरूप ही आज हमें ठीक-ठाक वेतन प्राप्त हो रहा है। संघर्ष की धार को और तीखी करनी होगी। संगठन के प्रदेश महामंत्री महादेवाराम देवासी ने सभी शिक्षकों को संगठित होकर संघर्ष करने का आह्वान किया। समापन समारोह को नगर पालिका नेता प्रतिपक्ष बीरबल विश्नोई, लक्ष्मण राजपुरोहित ने सम्बोधित करते हुए कहा कि शिक्षक समाज में उच्च आदर्श स्थापित करने वाला व्यक्तित्व होता है। किसी भी देश या समाज के निर्माण में शिक्षा की अहम् भूमिका होती है। कहा जाए तो शिक्षक ही समाज का आईना होता है। वहीं कार्यक्रम का संचालन संगठन जिला मंत्री जयकरण खिलेरी द्वारा किया गया।
यह थे मौजूद
राजस्थान शिक्षक संघ प्रगतिशील के दो दिवसीय समापन समारोह में मकाराम चौधरी, सूरजनराम साऊ, चुतराराम सियाग, जयकरण खिलेरी, छोगाराम सारण, प्रभाराम चौधरी, बाबुलाल कड़वासरा, रामनिवास साऊ, बाबुलाल सिंयाग, राजूराम विश्नोई आहोर, प्रकाश नारायण माली, बालकृष्ण शर्मा, लाडूराम खिंचड, रूडाराम देवासी, हरिराम चौधरी, जवाहराराम मेघवाल, राणाराम सारण, राजूराम विश्नोई, देवराज चौधरी, जगदीश मांजू, बाबुलाल मांजू, पन्नाराम गोदारा, नरिंगाराम चौधरी, राजूराम कुराडा, राजेन्द्र साऊ, सुनिल सारण, बुद्धाराम गोदारा, श्रवण गोदारा, ओमप्रकाश, भगराज सारण, भीखुशाह, भलाराम, हरिराम सांकड, पी.सी डारा, संजय गोदारा, जगदीशचन्द्र, हरचंदराम मेघवाल, शंकराराम मेघवाल, हेमराज राणा, जयकिशन मेघवाल, जयकिशन राणा, लाखाराम प्रजापत, करणसिंह, किशनलाल सहित बड़ी संख्या में शिक्षक मौजूद थे।
प्रदेश कार्यकारिणी की हुई बैठक आयोजित
प्रदेश महामंत्री पूनमचंद विश्नोई ने बताया कि समापन समारोह के पूर्व प्रात: 9 बजे प्रदेश कार्यकारिणी की बैठक आयोजित हुई। जिसमें सम्मेलन में प्राप्त प्रस्तावोंं को अंतिम रूप दिया गया। वहीं शिक्षकों की विभिन्न समस्याओं के निराकरण हेतु आंदोलन व संघर्ष करने का निर्णय लिया गया।
खुला अधिवेशन में शिक्षकों की समस्याओं पर चर्चा
प्रदेश सम्मेलन के द्वितीय चरण में खुला अधिवेशन प्रदेशाध्यक्ष वन्नाराम चौधरी की अध्यक्षता में आयोजित हुआ जिसमें विभिन्न जिलों के जिलाध्यक्षों द्वारा अपने-अपने जिलों की संगठनात्मक गतिविधियों, सदस्यता अभियान, शिक्षकों की ज्वंलत समस्याओं के बारे में विस्तार से जानकारी दी।

सांसद पटेल ने लोकसभा में उठाया आदर्श क्रेडिट कॉ-ऑपरेटिव सोसायटी का मुद्दा, आदर्श सोसायटी में जमा निवेशको की पूंजी वापस दिलवाई जायें : सांसद पटेल


सांचौर। जालोर-सिरोही लोकसभा सांसद देवजी पटेल ने 17 वीं लोकसभा के द्वितिय सत्र के दौरान आदर्श क्रेडिट को-ऑपरेटीव सोसायटी में गरीब एवं किसान निवेशको की जमा पुंजी संस्था से संबंधित व्यक्तियों की सम्पती जब्त कर वापस दिलवाने का मुद्दा उठाया। जालोर सिरोही सांसद देवजी पटेल ने बताया कि मेरे संसदीय क्षेत्र सहित देशभर के गरीब किसान को लाभकारी योजनाओ का झासा देकर आदर्श क्रेडिट को-ऑपरेटीव सोसायटी नाम की संस्था क्रेडिट सोसायटी में धन जमा करवा रही थी। परिपक्व होने पर राशि चुकाने के बजाय हाथ खडे कर दिये है। ऐसे मे आदर्श क्रेडिट को-ऑपरेटीव सोसायटी मे लोगो की करोडो की धनराशि डूब गई है। यह राशि कभी मिलेेगी भी या नही इसमें संशय बना हुआ है एक मोटे आंकलन के मुताबित लोगो द्वारा लगभग 14 हजार करोड रूपये का निवेश किया गया हैं। ऐसे में हाथ खडे किए जाने पर जमा धन भी सोसायटी मे ही फंस गया हैं। उन्होंने बताया कि क्षेत्र के गरीब, दैनिक मंजदूर, ठेले वाले, रिक्षा वाले, फेरी वाले, नरेगा मजदूर, छोटे किसान, छोटे व्यापारियों, रिटायर्ड कर्मचारी ने अपनी मेहनत की गाढी कमाई यह सोच कर आदर्श को-ऑपरेटीव सोसायटी में निवेश किया था कि कुछ साल बाद यह पैसा दुगुना होगा जिससे में अपना घर बनाऊंगा, अपनी बेटी की शादी करूंगा, बच्चो की पढाई एवं इसी धन से बुढापे में आराम से जीवन यापन करूगा। परन्तु आदर्ष को-ऑपरेटीव सोसायटी ने उन सब अरमानो पर पानी फेरते हुए राजस्थान में करीब 8 हजार करोड रूपये की निवेशित रकम अपनी शैल कंपनी में निवेश कर उक्त गरीबों को ठेगा दिखा दिया है। आज सॉसायटी की सभी शाखाए बंद कर दी गई है निवेशक जब अपना निवेशित धन आपस लेने जाते है तब शाखाओं पर ताला लगा नजर आता हैं।
सांसद पटेल ने बताया कि इस घोटाले में लिप्त उनके मालिको को गिरफ्तार किया गया है परन्तु उन्होंने आदर्श को-ऑपरेटीव सोसायटी में जमा धन मे से ज्यादातर धन अपने रिश्तेदारो को दिया है इसलिए उनको भी गिरफ्तार किया जाये तथा जहा भी उन्होने पुंजी निवेश की है उन संपतियो को जब्त कर गरीबो का पैसा वसुला जाये। सांसद पटेल ने बताया कि यह पैसा गरीब मजदुर एवं किसान का पैसा है जिन्होने अपना पेट काट यह पैसा जमा करवाया आज स्थति यह है कि उनके खाना-पानी के भी लाले पड़ रहे है। इसलिए जिस-जिस ने निवेशको का धन लिया उन सभी को गिरफ्तार करना चाहिए क्योकि प्रदेश की राज्य सरकार कोई कठोर कार्यवाही नही कर रही है, वर्तमान राज्य सरकार लोकसभा चुनाव में आरोपियों को बचाने का प्रयास कर रही थी। सांसद पटेल ने केन्द्र सरकार से पुरजोर मांग करते हुए कहा की केन्द्र सरकार इस पर कठोर से कठोर कार्यवाही कर निवेशको की जमा पुंजी वापस दिलवाये।

सांसद देवजी पटेल ने गायों की स्वदेशी नस्लों के सरंक्षण और संवर्धन तथा गोकुल ग्रामों की संख्या में बढोतरी करने का मुद्दा उठाया

-गायों की स्वदेशी नस्लो का संरक्षण एवं संवर्धन किया जाये : सांसद पटेल
मरूलहर न्यूज
सांचौर। जालोर-सिरोही लोकसभा सांसद देवजी पटेल ने शुक्रवार को 17 वीं लोकसभा के द्वितीय सत्र में राष्ट्रीय गोकुल मिशन के अन्तर्गत गायों की स्वदेशी नस्लो के सरंक्षण और संवर्धन तथा गोकुल ग्रामों की संख्या में बढोतरी करने का मुद्दा रखा। सांसद देवजी पटेल ने मत्स्यपालन, पषुपालन और डेयरी राज्य मंत्री डॉ. संजीव कुमार बालियान से प्रश्न करते हुए कहा कि विगत तीन वर्षो के दौरान देश में राष्ट्रीय गोकुल मिशन के अन्तर्गत गायों की स्वदेशी नस्लों के सरंक्षण और संवर्धन के लिए राज्य-वार क्या कार्य किए गए है। उक्त मिशन के मुख्य उद्देश्य क्या है और विगत तीन वर्षो के दौरान इनको प्राप्त करने के लिए सरकार द्वारा क्या प्रयास किए गए है, विगत तीन वर्षो के दौरान इस मिशन के अन्तर्गत आवंटित एवं खर्च धनराशि का ब्यौरा क्या हैं तथा इस मिशन के अन्तर्गत राजस्थान हेतु स्वीकृत गोकुल ग्रामों की संख्या क्या है, सरकार की राष्ट्रीय गोकुल मिशन के अन्तर्गत गोकुल ग्रामों की संख्या में बढोतरी करने की योजना है यदि हां तो तत्संबंधी ब्यौरा क्या है। सांसद पटेल के प्रश्न का जवाब देते हुए राज्य मंत्री डॉ. संजीव कुमार बालियान ने बताया कि राष्ट्रीय गोकुल मिशन को देशी बोवाईन नस्लों के विकास और संरक्षण बोवाईनों के दुध उत्पादन और उत्पादकता को बढाने और इस प्रकार किसानों के लिए दुध उत्पादन को और लाभकारी बनाने के उद्देश्य से कार्यान्वित किया जा रहा है इस मिषन के उद्देश्यो को प्राप्त करने के लिए किए गए कार्य इस प्रकार हैं। गोकुल ग्राम देशी बोवाईन नस्लों का वैज्ञानिक तथा समेकित रूप से संरक्षण और विकास करने के उद्देश्य से राष्ट्रीय गोकुल मिशन के अंतर्गत 21 एकीकृत देसी गो पशु विकास केन्द्र गोकुल ग्राम स्थापित किए जा रहे हैं। राष्ट्रीय कामधेनु प्रजनन केन्द्र, पशु संजीवनी के अंतर्गत 12 अंकीय विशिष्ट पहचान संख्या के साथ पॉली युरेथीन टैग का उपयोग करते हुए पशुओं की पहचान की जा रही और उनका आईएनएपीएच डाटाबेस पर अपलोड किया जा रहा हैं। नवम्बर 2019 तक 3.55 करोड़ पशुओं को टैग किया जा चुका हैं। राष्ट्रीय गोपाल रत्न और कामधेनु पुरस्कार, कृषि कल्याण अभियान, राष्ट्रव्यापी, आई कार्यक्रम, भु्रण अंतरण और इन-विट्रो निशेचन केन्द्रों को स्थापित करना व सुदृढ करना, देशी नस्लो के लिए राष्ट्रीय बोवाईन जीनोमिक केन्द्र इत्यादि। उन्होंने बताया कि पिछेले तीन वर्षो तथा वर्तमान वर्ष के दौरान राष्ट्रीय गोकुल मिशन के अंतर्गत कुल 1362 करोड रूपये आवंटन किए गए एवं 1310.41 करोड़ रूपये व्यय किये गये। देेश में कुल 21 गोकुल ग्राम स्थापित करने के लिए निधिया संस्वीकृत की गई है। राजस्थान राज्य की सरकार से गोकुल ग्राम या भू्रण अंतरण प्रद्योयोगिकी व इन विट्रो निशेेचन प्रयोगशालाएं स्थापित करने संबंधी कोई प्रस्ताव प्राप्त नही हुआ हैं।

नर्मदा विभाग ने नर्मदा नहर व खेतों से मशीनें व पाईप हटाए, इधर किसानों ने किया प्रदर्शन

सांचौर। क्षेत्र में नर्मदा नहर परियोजना के अधिकारियों ने मंगलवार को टीम के साथ जाकर किसानों के मशीनें व अवैध पाइप हटाए। मंगलवार को विभाग ने चौरा, अरणाय, धानता, भूरा की ढाणी, कारोला, लाछड़ी, जाजूसन, गरडाली, माखुपुरा सहित कई गांवों से जेसीबी की सहायता से किसानों के इंजन व पाईप हटाए गए। रबी की फसल के नियमित जलापूर्ति व किसानों के हिस्से पानी देने व विभाग द्वारा पंप व पाइप हटानेे के विरोध में किसानों ने नर्मदा विभाग पर धरना प्रदर्शन कर विरोध जताया। वहीं किसानों के इंजन व पाईप लाकर विभाग के कार्यालय के बाहर रख दिए। इसके बाद किसानों ने पूर्व विधायक जीवाराम चौधरी के नेतृत्व में बुधवार को नर्मदा नहर परियोजना विभाग में पहुंच कर प्रदर्शन किया। तथा आक्रोशित किसानों ने प्रदर्शन कर उपखंड मुख्यालय पर पहुंच कर उपखंड अधिकारी को ज्ञापन सौंपा। विभाग के अधिकारियों के खिलाफ प्रदर्शन कर ज्ञापन सौंपा। वहीं किसानों ने ज्ञापन में बताया कि सांचौर लिफ्ट कैनाल की शुरूआत 2008 में हुई तब से वर्ष 2018 तक किसान जो लिफ्ट कैनाल के नजदीय थे उन्होंने अपने खेतों तक स्वयं के खर्चे से इंजन व पाइप लाईन डालकर रबी की फसल की सिंचाई शुरू कर दी आज दिन तक यहीं सिंचाई की प्रक्रिया सुचारू रूप से चल रही थी। अब वर्ष 2019 की रबी सीजन से जब किसानों ने अपने खेतों में बुवाई कर दी है लेकिन प्रशासन जबरन उनके पाईप लाईनों एवं इंजनोंं को तोडफ़ोड़ कर रहे है। जिससे किसान कर्ज के बोझ तले दब रहे है। गत वर्ष की तरह इस बार भी नर्मदा नहर विभाग द्वारा नहर में कम पानी छोडऩे के कारण किसानों बार-बार प्रताडि़त किया जा रहा है। समस्या की गंभीरता को देखते हुए इस वर्ष की रबी सीजन हेतु नगर नहर परियोजना प्रशासन द्वारा पर्याप्त मोटरें सुचारू रूप से चलवाकर किसानों को इस रबी सीजन में पानी लेने दिया जाए। ज्ञापन में बताया कि नर्मदा विभाग प्रशासन के द्वारा मंगलवार को किसानों की मशीनें, मोटरें, पाईप लाईन, सेक्शन, पंखे बेवजह तोड़कर किसानों का नुकसान किया गया है। जिसको लेकर बुधवार को किसानों ने नर्मदा नहर परियोजना कार्यालय के समक्ष प्रदर्शन किया। इस दौरान बड़ी संख्या में किसान मौजूद थे।
किसानों ने किया प्रदर्शन
मंगलवार को विभाग की ओर से नर्मदा नहर से मशीनें व पाइप हटाने के बाद बुधवार को नर्मदा नहर परियोजना कार्यालय में पहुंच कर किसानों ने प्रदर्शन किया। वहीं विभाग की ओर से हटाई गई मशीनों व पाइप को लेकर उपखंड मुख्यालय पर पहुंच कर आक्रोशित किसानों ने विरोध जताते हुए विभागीय अधिकारियों के खिलाफ नारेबाजी कर रोष जताया। वहीं किसान मशीनें व पाइप वापस लेने की मांग पर अड़े रहे। जिस पर जनप्रतिनिधियों ने किसानों की मशीनें व पाइप वापस देने की मांग की। जनप्रतिनिधियों ने किसानों को टेल तक समय पर पानी देने एवं मशीनें व पाइप वापस देने की मांग की। इस दौरान उपखंड मुख्यालय पर पहुंच किसानों ने उपखंड अधिकारी को ज्ञापन सौंपा।
धरना प्रदर्शन करने की दी चेतावनी
विभाग की ओर से टेल तक पानी देने एवं किसानों की मशीनें व पाइप वापस देने की मांग को लेकर जनप्रतिनिधियों ने उपखंड मुख्यालय पर पहुंच कर उपखंड अधिकारी को ज्ञापन सौंपा। तथा जनप्रतिनिधियों ने उपखंड अधिकारी भूपेन्द्र कुमार यादव को कहा कि किसानों को समय पर टेल तक पानी दिया जाए तथा किसानों की जब्त की गई मशीनें व पाइप वापस दिया जाए। जिसको लेकर पूर्व विधायक जीवाराम चौधरी ने किसानों की मांगे पूरी नहीं होने पर उपखंड मुख्यालय के समक्ष भूख हड़ताल व धरना प्रदर्शन करने की चेतावनी दी।

सांचौर में धींगपुरा में टेल तक पानी पहुंचाने की मांग को लेकर नर्मदा विभाग के समक्ष भूख हड़ताल तीसरे दिन जारी

सांचौर। रबी की सीजन में पानी की मांग को लेकर धींगपुरा के किसानों का नर्मदा नहर परियोजना विभाग के समक्ष भूख हड़ताल तीसरे दिन जारी। नर्मदा नहर में सिंचाई के लिए पानी छोड़ा था, लेकिन अभी तक टेल के किसानों को पानी नहीं मिल रहा है। इसको लेकर सांचौर व चितलवाना दोनों क्षेत्रों के किसानों में रोष गहरा गया है। इधर, धींगपुरा के किसान लगातार पानी की मांग को लेकर नर्मदा नहर परियोजना विभाग के समक्ष आमरण अनशन व धरना प्रदर्शन कर रहे हैं, जिसके बाद भी पानी टेल तक नहीं पहुंच पा रहा है। नर्मदा नहर परियोजना के समक्ष भाजपा नेता दानाराम चौधरी के नेतृत्व में किसानों को आमरण अनशन व धरना तीसरे दिन भी जारी रहा। वहीं मांगों को लेकर किसानों ने पानी की मांग को लेकर प्रदर्शन कर ज्ञापन सौंपा। ऐसे में विभाग की ओर से धींगपुरा के किसानों को पानी नहीं मिलने से टेल के किसान सिंचाई नहीं कर पा रहे हैं। पानी की मांग को लेकर किसानों का धरना-प्रदर्शन जारी है। इस दौरान किसानों ने बताया कि विभाग के कार्यालय जाने पर अधिकारी उनकी सुनवाई नहीं कर रहे हैं। किसानो का आरोप है कि विभाग की ओर से तैयार की गई अधिकांश डिग्गियां आज भी अधूरी पड़ी हैं। किसानों ने बताया कि नर्मदा विभाग की ओर से नहर की वितरिकाओं में टेल तक पानी नहीं छोड़ा जा रहा है। जिसके कारण लोगों को परेशान होना पड़ रहा है। किसानों के खेतों में हजारों हेक्टयर में खड़ी फसल बर्बाद हो रही है, लेकिन टेल तक पानी नहीं छोड़ा जा रहा है। भाजपा नेता दानाराम चौधरी ने कहा कि नर्मदा विभाग के अधिकारियों की लापरवाही के कारण पानी किसानों को नहीं मिल पा रहा है। उन्होंने कहा कि किसानों के साथ किसी प्रकार का अन्याय नहीं होने दिया जाएगा, जिसको लेकर बड़े स्तर पर धरना प्रदर्शन भी करेंगे। किसानों ने बताया कि टेल तक पानी नहीं पहुंच पा रहा है। इससे फसल की सिंचाई नहीं हो पा रही है। सिंचाई के अभाव में फसल खराब हो रही है। इस दौरान पूर्व विधायक जीवाराम चौधरी, भाजपा वरिष्ठ नेता मोतीराम चौधरी, किसान नेता छोगाराम चौधरी, दुर्गाराम चौधरी, नरपतसिंह अरणाय, सवाराम पुरोहित ने धरने को सम्बोधित किया। इस मौके पर अमराराम, रमेश कुमार, विक्रमकुमार, खंगाराम, सवजीराम, वरजांगाराम, ओखाराम, कुम्भाराम, धनाराम, सोमाराम, मोडाराम, भगाराम, पृथ्वीराज, मालाराम, भंजनलाल, कमलेश कुमार, कवराराम, देवाराम, हरखाराम, अन्नाराम, मांगीलाल सहित बड़ी संख्या में किसान मौजूद थे।
यह बैठे भूख हड़ताल पर
नर्मदा नहर परियोजना विभाग के समक्ष किसानों की भूख हड़ताल तीसरे दिन भी जारी रही। इस दौरान भूख हड़ताल के पहले दिन उमाराम मेघवाल, दिनेश सैन, मगाराम मेघवाल, रवजीराम चौधरी वहीं दूसरे दिन धुडाराम सैन, लखामाराम, जोगाराम, कुम्भाराम, ईशराराम कोली व नागजीराम, आमरण अनशन पर बैठें। इस दौरान बड़ी संख्या में किसान धरने पर बैठे हुए है।
विभाग की लापरवाही किसानों पर भारी
नर्मदा नहर के अधिकारियों की लापरवाही किसानों पर भारी पड़ रही है। किसानों ने खेतों को तैयार कर बीज बो दिए। लेकिन नर्मदा नहर के अधिकारियों की लापरवाही से किसानों को पानी नही मिल रहा है। कई बार विभाग के अधिकारियों ने टेल तक पानी छोडऩे की मांग की गई लेकिन अधिकारियों का एक ही रटा-रटाया जवाब मिलता है कि एक दो दिन में पानी आ जाएगा।
बारी के बावजूद नहीं मिला पानी
नर्मदा विभाग की ओर से पानी वितरण को लेकर पूर्ण रूप से मॉनीटरिंग तक नहीं की जा रही है। जिससे विभागीय अधिकारियों द्वारा मनमर्जी से ही पानी छोड़ा जा रहा है ऐसे में किसानों ने विरोध जताते हुए समय पर पानी देने की मांग की। वहीं विभागीय अधिकारियों के खिलाफ रोष जताया।

सांसद पटेल ने लोकसभा में राष्ट्रीय राजमार्गो व पूलों का निर्माण करवाने का उठाया मुद्दा, संसदीय क्षेत्र में राष्ट्रीय राजमार्गो व पुलो का निर्माण करवाये जाये : सांसद पटेल

सांचौर। जालोर-सिरोही लोकसभा सांसद देवजी पटेल ने 17 वीं लोकसभा के द्वितीय सत्र के दौरान शुन्यकाल के तहत झेरडा (गुजरात) से सिरोही राज्यमार्ग को राष्ट्रीय राजमार्ग में निर्माण करवाने, मंडार एवं रेवदर कस्बे के बाईपास सड़क निर्माण, जालोर आहोर मार्ग (एन.एच.325) पर स्थित समपार संख्या सी-48 के स्थान पर उपरी पुल का निर्माण करने, रोहिट-आहोर-जालोर-भीनमाल-करडा-सांचौर नेशनल हाईवे का अतिशिघ्र निर्माण शुरू करने व हिल स्टेशन माउंट आबू के गुरु शिखर तक जाने हेतु भारतमाला परियोजना के तहत सड़क निर्माण करवानेे की मांग रखी। सांसद देवजी पटेल ने लोकसभा में मांग रखते हुए कहा कि गुजरात स्थित झेरडा से सिरोही राज्यमार्ग वाया मंडार, रेवदर होते हुए यह मार्ग राष्ट्रीय राजमार्ग (एनएच 62) से मिल जाता है। झेरडा से सिरोही मार्ग पर दिन प्रतिदिन गाडियों की संख्या बढती जा रही हैं। दोनो तरफ से यह सडक राष्ट्रीय राजमार्ग से मिलने के कारण भारी वाहनों को आवागमन बढता जा रहा हैं। उन्होंने केन्द्रीय मंत्री नितिन गढकरी द्वारा की गई घोषणा का हवाला देते हुऐ झेरडा से सिरोही मार्ग को राष्ट्रीय राज्यमार्ग घोषित करवाने की मांग की। सांसद देवजी पटेल ने लोकसभा में चर्चा के दौरान झेरडा-सिरोही मार्ग पर स्थित मंडार और रेवदर दो घनी आबादी वाले कस्बे है। इन कस्बों के पास दिन मे ट्रॉफिक जाम हो जाना अब आम बात हो गयी हैं। जिससे आम नागरिकों सहित स्कूल जाने वाले छात्रों को और व्यापारियों को काफी परेशानियों का सामना करना पडता है, इसलिए रेवदर और मंडार कस्बे के पास बाईपास सड़क का निर्माण कराया जाए। सांसद देवजी पटेल के लोकसभा में चर्चा के दौरान माउंट आबू स्थित गुरु शिखर को राष्ट्रीय राजमार्ग से जोडऩे कि मांग रखते हुए कहा कि राजस्थान का पर्यटन स्थल एवं हिल स्टेशन माउट आबु को भारतमाला परियोजना के तहत सड़क निर्माण करवाने की भी घोषणा की जा चुकी परन्तु अधिकारियो की लापरवाही के कारण निर्माण कार्य नही हुआ है जिसका अतिशीघ्र निर्माण करवाया जायें। सांसद देवजी पटेल ने लोकसभा में चर्चा के दौरान बताया कि पश्चिम राजस्थान के समदड़ी-भीलड़ी रेल खंड से प्रतिदिन 45-50 मालगाडियां गुजरती हैं। इस स्थिती में लगभग हर आंधे घंटे में एक बार रेलवे क्रॉसिग बंद हो जाता हैं। आपात स्थिती मे वाहन चालकों को ट्रेन के गुजरने के बाद क्रॉसिंग के खुलने का इंतजार करना पडता हैं। उक्त स्थान मुख्यालय जालोर समीप होने के कारण यहा पुरे दिन आवागमन बाधित रहता है तथा क्रोसिंग बंद की वजह कई जाने जा चुकी हैं। उक्त समस्याओं को ध्यान में रखते हुए रेलवे समपार संख्या सी-48 पर पुर्व घोषित ऊपरी पुल का निर्माण जल्द से जल्द किया जायें। सांसद देवजी पटेल ने सदन में बताया कि प्रदेश के जोधपुर संभाग के पश्चिमी क्षेत्र में रोहिट-आहोर-जालोर-भीनमाल-करडा-सांचौर का रास्ता करीब 250 किमी लंबा हैं। यह मार्ग जोधपुर, पाली, जयपुर, अजमेर, ब्यावर एवं दिल्ली को सीधा पश्चिम क्षेत्र से जोड़ता हैं, इस मार्ग से कांडला बंदरगाह, अहमदाबाद जैसे गुजरात के बडे शहरों से सीधा सम्र्पक होता है। साथ ही यह सड़क मार्ग जिले के सभी उपखंड क्षेत्र को जालोर जिला मुख्यालय एवं जोधपुर संभाग से जोड़ता हैं। इस मार्ग पर प्राचीन धार्मिक स्थल होने के साथ-साथ अंतराष्ट्रीय पाक सीमा से जुडऩे वाला मुख्य राजमार्ग हैं। इस सड़क मार्ग कों राष्ट्रीय राजमार्ग में निर्माण के लिए उदयपुर में सड़क परिवहन केन्द्रीय मंत्री द्वारा घोषणा की जा चुकी थी। लेकिन अभी तक इस सड़क के संबंध में किसी भी प्रकार कोई प्रगति नही हुई है। सांसद पटेल ने आम लोगों की भावनाओं तथा क्षेत्र के विकास को मध्यनजर रखते हुए उक्त सड़क मार्ग कों अतिशीघ्र राष्ट्रीय राजमार्ग के रूप में प्रगति के पथ पर आगें बढवानें की मांग की।

सांचौर में शिक्षक संघ प्रगतिशील का प्रांतीय अधिवेशन 6 व 7 को, जोरों पर तैयारियां, सम्मेलन की तैयारियों को लेेकर बैठक आयोजित, सौंपी जिम्मेदारी

सांचौर। राजस्थान शिक्षक संघ प्रगतिशील का प्रांतीय शैक्षिक अधिवेशन आगामी 6 व 7 दिसंबर को राजकीय उच्च माध्यमिक में आयोजित किया जाएगा। संगठन के जिलाध्यक्ष किशनलाल सारण ने बताया कि प्रांतीय शैक्षिक अधिवेशन के सफल आयोजन को लेकर तैयारियां जोरों पर हैं और संपूर्ण क्षेत्र में उच्च स्तर पर प्रचार-प्रसार किया जा रहा है और प्रत्येक विद्यालय तक आमंत्रण दिया जा रहा है। सम्मेलन के दो दिवस में नवीन शिक्षा नीति 2019 शिक्षा, शिक्षक, शिक्षार्थी के आदि के बारे में विचार मंथन का राज्य सरकार को प्रस्ताव भेजा जाएंगे और समस्याओं को हल करने की ठोस रणनीति तैयार की जाएगी। सम्मेलन की तैयारियां जोरो पर चल रही है। वहीं सम्मेलन की तैयारियोंं को लेकर सोमवार को बैठक का आयोजन किया गया। जिसमें विभिन्न कमेटियों का गठन कर जिम्मेंदारी सौंपी गई। सम्मेलन में अधिकाधिक भागीदारी हेतु संपूर्ण क्षेत्र में युद्ध स्तर पर प्रचार प्रसार किया जा रहा है और सम्मेलन के लिए पीले चावल बांटे जा रहे हैं।
इनके आतिथ्य में होगा सम्मेलन का उद्घाटन
सम्मेलन का उद्घाटन 6 दिसम्बर को राजस्व मंत्री हरीश चौधरी, शिक्षा राज्यमंत्री गोविंदसिंह डोटासरा, वन एवं पर्यावरण राज्यमंत्री सुखराम बिश्नोई, उच्च शिक्षा मंत्री भंवरसिंह भाटी, पूर्व मुख्य सचेतक रतन देवासी, कांग्रेस जिलाध्यक्ष डॉ. समरजीतसिंह, जालोर पूर्व विधायक रामलाल मेघवाल, भेड़ एवं ऊन विकास बोर्ड भारत सरकार के पूर्व चेयरमैन केसरलाल चौधरी, मांगीलाल सारण, प्रगतिशील समाज सेवा ट्रस्ट, अतिथि के तौर पर भाग लेंगे।
तैयारियों को लेकर बैठक आयोजित
सम्मेलन को भव्य और सफल आयोजन हेतु सोमवार को शिक्षक भवन में सम्मेलन संयोजक सुरजनराम साहू की अध्यक्षता में आयोजन समिति की बैठक की गई। बैठक में अब तक की गई व्यवस्थाओं की समीक्षा तथा विभिन्न कमेटियों जिसमें स्वागत कमेटी, भोजन कमेटी, पंजीयन कमेटी, आवास कमेटी, बैठक व्यवस्था कमेटी का गठन कर प्रभारी नियुक्त किए गए। बैठक में सम्मेलन सह संयोजक प्रभाराम चौधरी, उप संयोजक छोगाराम सारण, सुखराम साऊ, ब्लॉक अध्यक्ष बाबूलाल कुराड़ा, ब्लॉक मंत्री जवाहर मेघवाल, प्रदेश पदाधिकारी भागीरथ जानी, चितलवाना ब्लॉक अध्यक्ष रामनिवास साऊ, रामनिवास बुडिय़ा, प्रेमाराम पूनिया, हरीराम सारण प्रदेश कोषाध्यक्ष, राणाराम सारण, राजेंद्र साहू, शैतानराम सारण, गणपत लाल विडार, किशनलाल ढाका, किशोर कुमार शर्मा, प्रकाश कुराड़ा, ओमप्रकाश, गणपतलाल, रमेश जानी, बुदाराम गोदारा, पीसी गीला, तालिब खान, श्रवण गोदारा, दिनेश साहू, मोहनलाल समेत कई शिक्षक उपस्थित थे।

गम के साथ गुस्सा, बोले दरिंदों को हो फांसी, सांचौर में अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद ने दी डॉ. प्रियंका रेड्डी को श्रद्धांजलि

सांचौर। अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के कार्यकर्ताओं ने सोमवार को राजकीय महाविद्यालय दरबार चौक में हैदराबाद की डॉ. प्रियंका रेड्डी को श्रद्धांजलि अर्पित की। जिला सह संयोजक छगनलाल माली ने बताया कि जिस प्रकार से हैदराबाद में डॉ. प्रियंका रेड्डी के साथ सामूहिक रेप किया गया उसके बाद उन्हें जलाकर मार दिया गया। बहुत ही दुर्भाग्यपूर्ण घटना है। उन्होंने कहा कि सर्वोच्च न्यायालय व प्रधानमंत्री से मांग करता हुं की इन आरोपियों को फांसी दी जाए। इस मौके पर नगर अध्यक्ष मांगीलाल चौधरी ने कहा कि रेप के आरोपियों को फांसी की सजा होनी चाहिए। राजकीय महाविद्यालय अध्यक्ष अशोक देवासी ने कहा कि देश में जिस प्रकार से यह घटनाएं बढ़ रही है उनकी सही तरीके जांच नही हो रही है। हर साल केवल 4 प्रतिशत लोगों को ही सजा मिलती है, रेप के आरोपो में बाकी सारे लोगों का मामला कोर्ट में पेंडिंग रह जाता है। इकाई अध्यक्ष सुरेश सोलंकी ने बताया कि फांसी के बिना इन दरिंदो को किसी भी प्रकार का डर नही है। एसएफडी नगर सह संयोजक यश दवे ने बताया कि अगर सरकार इन लोगों को सख्त से सख्त सजा नही देती है तो बड़ा आंदोलन करेंगे। इस मौके पर नरपत लालपुर, इकाई अध्यक्ष अश्विन त्रिवेदी, सचिव ईश्वर देवासी, उमेश कुमार, कैलाश कुमार, मोहित देवासी, लीलाराम, सिद्धार्थ कुमार, अनिल सोनी सहित कई कार्यकर्ता मौजूद थे।

अखिल राजस्थान मुख्यमंत्री नि:शुल्क दवा वितरण योजना कम्प्यूटर ऑपरेटर महासंघ ने मांगों को लेकर सहकारिता मंत्री आंजणा को सौंपा ज्ञापन

सांचौर। अखिल राजस्थान मुख्यमंत्री नि:शुल्क दवा वितरण योजना कम्प्यूटर ऑपरेटर महासंघ जिलाध्यक्ष मांगीलाल विश्नोई के नेतृत्व में मुख्यमंत्री नि:शुल्क दवा योजना के तहत कार्यरत संविदा कम्प्यूटर ऑपरेटर (मैन विद मशीन) को नियमित करने एवं मानदेय में वृद्धि की मांग को लेकर सहकारिता मंत्री उदयलाल ऑजणा को ज्ञापन सौंपा। ज्ञापन में बताया कि आपकी सरकार के पिछलें कार्यकाल की बेहर महत्वकांक्षी योजना मुख्यमंत्री नि:शुल्क दवा वितरण योजना में संविदा कम्प्यूटर ऑपरेटर अधीन निदेशक जल स्वास्थ्य के हतत सितम्बर 2012 से वर्तमान में कार्यरत है। सरकार के जन घोषणा पत्र 2018 विधानसभा चुनाव में संविदा कार्मिकों को नियमितकरण के वादे के तहत मुख्यमंत्री नि:शुल्क दवा वितरण योजना में कार्यरत संविदा कम्प्यूटर ऑपरेटर को अनुभव के आधार पर नियमित करने की मांग की। ज्ञापन में बताया कि मुख्यमंत्री नि:शुल्क दवा वितरण योजना में कार्यरत संविदा कम्प्यूटर ऑपरेटर का मानदेय मई 2015 से 8500 निधार्रित है इसके पश्चात मानदेय में किसी प्रकार की बढोतरी नहीं की गई है, जबकि हमारे साथ चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग में कार्यरत अन्य संविदा कार्मिकों के मानदेय में प्रतिवर्ष 10 प्रतिशत की वृद्धि की जा रही है सहित विभिन्न मांगों को लेकर ज्ञापन सौंपा। इस दौरान ब्लॉक अध्यक्ष भारमल परमार, देवाराम, दीपाराम, नरसीराम, वगताराम सहित बड़ी संख्या में कार्मिक मौजूद थे।

पूर्व विधायक चौधरी ने केक काटकर मनाया जन्मदिवस, सहकारिता मंत्री आंजणा की मौजूदंगी में मनाया जन्म दिवस

सांचौर। हाड़ेचा रोड़ स्थित निवास पर पूर्व विधायक जीवाराम चौधरी ने अपना जन्म दिवस केक काटकर मनाया। वहीं जन्म दिवस पर कार्यकर्ताओं ने मिठाई बांटी। इस दौरान पूर्व विधायक जीवाराम चौधरी ने जन्म दिवस सहकारिता मंत्री उदयलाल आंजणा की मौजूदंगी में मनाया। इस दौरान सहकारिता मंत्री उदयलाल आंजणा ने पूर्व विधायक जीवाराम चौधरी को माला पहनाकर बधाई एवं शुभकामनाएं दी। पूर्व विधायक के निवास पर सुबह से कार्यकर्ताओं को तांता लगा रहा है। पूर्व विधायक ने बताया कि वह हर वर्ष अपना जन्मदिन जनता के बीच ही मनाते हैं। उन्होंने कहा कि क्षेत्र के लोग ही हमारा परिवार है। वहीं इस दौरान पूर्व विधायक चौधरी को कार्यकर्ताओं एवं अन्य लोगों ने माला पहनाकर जन्म दिवस की बधाई एवं शुभकामनाएं दी। इस दौरान पालिका उपाध्यक्ष दिलीप राठी, पंचायत समिति सदस्य हरिसिंह राव, समस्त व्यापार महासंघ अध्यक्ष हरीश पुरोहित सीलु, पूर्व अध्यक्ष भोपालचंद मेहता, डॉ. नरसीराम चौधरी, धुखसिंह चौहान, हरचंदराम पुरोहित पालड़ी, प्रभु खत्री, पार्षद योगेश जोशी, जगदीश शारदा, कानसिंह परावा, हरिसिंह देवल, सांवलाराम देवासी, शैतानसिंह दांतिया, जगदीश चौधरी, सांवलाराम माली, हुकमाराम लोमरोड़, ओमप्रकाश चौधरी, कानाराम चौधरी, प्रवीण जोशी, दलपत दर्जी, रमेश राजपुरोहित, प्रमोद सोनी, भाजपा महिला मोर्चा जिलाध्यक्ष शांता विश्नोई, भाजपा महिला मोर्चा नगर अध्यक्ष शर्मिला शर्मा, मितेश चौधरी, ओमप्रकाश माली, भगाराम चौधरी, दोलाराम चौधरी, भरत शर्मा, मालाराम चौधरी, श्याम चौधरी, भगाराम चौधरी, जगताराम, महादेवाराम, श्रवण खिलेरी सहित बड़ी संख्या में कार्यकर्ता एवं अन्य लोग मौजूद थे।

सहकारिता मंत्री शनिवार का सांचौर में विभिन्न कार्यक्रमों भाग लेंगे

जालोर। सहकारिता एवं इन्दिरा गांधी नहर परियोजना विभाग मंत्री उदयलाल आंजना शनिवार को सांचौर आयेगे जहाॅ वे विभिन्न सामाजिक कार्यक्रमों मे भाग लेगे। अतिरिक्त जिला कलेक्टर छगन लाल गोयल ने बताया कि सहकारिता एवं इन्दिरा गांधी नहर परियोजना विभाग मंत्री उदयलाल आंजना 30 नवम्बर शनिवार को प्रातः 10 बजे उदयपुर से रवाना होकर दोपहर 3 बजे सांचौर पहुचेंगे। जहां वे विभिन्न सामाजिक कार्यक्रमों मे भाग लेगें तथा रात्रि विश्राम सांचौर मे करेगे। सहकारिता मंत्री रविवार को मध्यान्ह 12 बजे सांचौर से केसून्दा के लिये प्रस्थान करेगे।

राष्ट्र का विकास नागरिकों की भूमिका अहम : नरेंद्रसिंह

पंचायत समिति भीनमाल में जन प्रतिनिधियों की बैठक में दी जानकारी
जालोर। जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के तत्वावधान में गुरूवार को भीनमाल पंचायत समिति में जन प्रतिनिधियों की बैठक आयोजित की गई। बैठक के दौरान जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के सचिव अपर जिला एवं सेशन न्यायाधीश नरेन्द्रसिंह ने कहा कि कि किसी भी राष्ट्र के निर्माण में नागरिकों की भूमिका अहम रहती है। यदि नागरिक राष्ट्र के विकास के लिए प्रयत्नशील नहीं है तो वह राष्ट्र प्रगति नहीं कर सकता। राष्ट्र को निरंरत उंचाईयों पर ले जाने की जिम्मेदारी नागरिकों की है। इसलिए हमें संविधान में वर्णित मूल कर्तव्यों की पालना करनी चाहिए। इस दौरान पंचायत समिति मुख्यालयों पर संचालित विधिक सेवा केन्द्र के बारे में जानकारी दी और कहा कि कोई भी व्यक्ति यहां आकर अपनी समस्या बता सकते है। इस दौरान उन्होंने विधिक सेवा क्लिनिक में उपलब्ध संसाधनों के बारे में भी विस्तार से जानकारी दी। उन्होंने राजस्थान राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण एवं जिला विधिक सेवा प्राधिकरण की ओर से संचालित योजनाओं, कार्यक्रमों के बारे में भी विस्तार से जानकारी दी। इस अवसर पर प्रधान धोदाराम, विकास अधिकारी हरीराम के अलावा विभिन्न ग्राम पंचायतों के सरपंच व जनप्रतिनिधि उपसिथत रहे।

दासपा अस्पताल के निरीक्षण में कर्मचारी मिले अनुपस्थित

-जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के सचिव ने किया दासपा अस्पताल का निरीक्षण, मिली कई अनियमिताएं, अवधिपार दवाइयां भी मिली
जालोर। जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के सचिव नरेंन्द्रसिंह ने गुरूवार को जिले के दासपा अस्पताल का निरीक्षण कर व्यवस्थाओं का जायजा लिया तो वहां पर कई अनियमिताएं पाई गई। हैरत की बात तो यह है कि अस्पताल में कई कर्मचारी अनुपस्थित पाये गये, पूछने पर उनके अनुपस्थित रहने का कोई उचित कारण नहंीं बता पाये। इसके अलावा यहां पर अवधिपार दवाइयां भी पाई गई, जिससे यह प्रतीत होता है कि प्रभारी द्वारा मरीजों के स्वास्थ्य एवं अस्पताल की व्यवस्थाओं को लेकर कोई ध्यान नहीं दिया जा रहा है। यहां पर जगह जगह गंदगी पाई गई। साफ-सफाई के अभाव में बदबू से भी लोग परेशान दिखे। जानकारी के अनुसार जिला विधिक सेवा प्राधिकरण सचिव अपर जिला एवं सेशन न्यायाधीश नरेन्द्रसिंह ने गुरूवार को भीनमाल उपखंड दासपां गांव स्थित राजकीय चिकित्सालय का औचक निरीक्षण किया। निरीक्षण के दौरान वहां पर कुछ कर्मचारी ही उपस्थित मिले, कई कर्मचारी अनुपस्थित पाये गये। अस्पताल के लेबर रूम में साफ-सफाई का अभाव पाया गया। यहां पर अवधिपार दवाइयां भी पाई गई। लोगों ने बताया कि अस्पताल में चिकित्सकर्मी समय पर उपस्थित नहीं होते है जिससे लोगों को खासी परेशानी का सामना करना पडता है। जिस पर सचिव ने उपस्थित कर्मचारियों को अपनी डयूटी पूरी निष्ठा के साथ निभाने की बात कही, उन्होंने कहा कि यह पेशा सेवा का पेशा है इसलिए इसमें तन मन से कार्य करना आवश्यक है। किसी के गलती के कारण कभी किसी को जान हानि का नुकसान हो सकता है, इसलिए अपना कार्य निष्ठा के साथ करना चाहिए।

सांसद देवजी पटेल ने जालोर जिलें में अतिरिक्त जवाहर नवोदय विद्यालय खोलने की लोकसभा सत्र के दौरान रखी मांग

सांचौर। जालोर-सिरोही सांसद देवजी पटेल ने गुरूवार को 17 वीं लोकसभा के द्वितीय सत्र के दौरान नियम 377 के तहत संसदीय क्षेत्र के जिला जालोर में अतिरिक्त जवाहर नवोदय विद्यालय खोलने की मांग रखी। सांसद पटेल ने बताया कि जालोर जिला साक्षरता एवं शिक्षा के क्षेत्र में पिछडा हुआ हैं तथा जिले की साक्षरता दर 2011 की जनगणना के अनुसार 55.58 प्रतिशत हैं जिससे पुरूषो एवं महिलाओ की साक्षरता दर क्रमश: 71.83 तथा 38.73 है। राजस्थान में यह जिला सबसे कम साक्षरता वाला जिला हैं। तथा साक्षरता में लैंगिक अंतर भी सबसे अधिक हैं। पंचायतीराज मंत्रालय भारत सरकार द्वारा इसे पिछडे जिले के रूप में चिन्हित किया गया है तथा यह जिला बी.आर.जी.एफ योजना में चिन्हित है। यहां अनुसूचित जाति कुल जनसंख्या का 18.6 प्रतिशत तथा अ.ज.जा. 9.00 प्रतिशत हैं। जिले का भूगौलिक विस्तार बहुत बडा है। जो वर्तमान जवाहर नवोदय विद्यालय जसवंतपुरा जो जिला मुख्यालय से 112 कि. मी. दूरी पर है। वर्ष 1987 में स्थापना के बाद नि:शुल्क एवं गुणवतापूर्ण शिक्षा उपलब्ध करवा रहा हैं एवं एक और अतिरिक्त जवाहर नवोदय विद्यालय जिला मुख्यालय के समीप में स्वीकृत किये जाने की आवश्यकता हैं ताकि और अधिक संख्या में बच्चो को गुणवता पूर्ण शिक्षा दी जा सके। यह नया विद्यालय जालोर, सायला, आहोर एवं भीनमाल पंचायत समिति क्षेत्र के छात्रो के प्रवेश के लिए तथा वर्तमान में संचालित जवाहर नवोदय विद्यालय जसंवतपुरा रानीवाडा, सांचौर एवं चितलवाना पंचायत समिति के छात्रो के प्रवेश के लिए होगा। यहां के छात्रों की समस्या को देखते हुए तथा विशेष परिस्थतियों को मध्यनजर रखते हुए जिला मुख्याल्य के समीप में एक और अतिरिक्त जवाहर नवोदय विद्यालय खोला जायें।

सांचौर में अतिक्रमण के मकड़ जाल में फंसा शहर, जिम्मेदार आंख मूंदे बैठे

सांचौर। इसे नगर पालिका का नरम रवैया कहें या प्रशासन की अनदेखी, लेकिन जो भी है उसका खामियाजा शहर के बाशिंदों को सहना पड़ रहा है। छोटी व संकरी गलियों के बीच वाहनों की आवाजाही और पग-पग पर अतिक्रमण यही बयां कर रहा है कि जिम्मेदार आंख-कान बंद करके बैठे हैं। शहर की प्रमुख समस्याओं में से एक अतिक्रमण रहवासियों व क्षेत्रवासियों के लिए सिरदर्द बनी हुई है। शहर के बाजारों में सामान सजावट को लेकर व्यापारियों के अतिक्रमण पर राहगीरों व वाहन चालकों का बाजार से गुजरना मुश्किल हो गया है। शहर के सब्जी मण्डी, मुख्य बाजार, विवेकानंद सर्किल, पुराना बस स्टेण्ड, हाड़ेचा बस स्टेण्ड, चौधरी धर्मशाला, बड़सम बाईपास, रानीवाड़ा रोड़, न्यू बस स्टेण्ड रोड़, विश्नोई धर्मशाला आदि बाजारों के खुलते ही दुकानदार सामान दुकानों के बाहर रखते हैं। ऐसे में अतिक्रमण की भेंट चढ़े बाजारों पर राहगीरों व खरीदारों के लिए पैदल गुजरना मुश्किल हो गया है। संकरे मार्गों पर वाहन व पैदल चलने वाले आपस में टकराते हैं। इस पर राहगीर व वाहन चालक आपस में उलझते हैं। पुलिस थाने में सीएलजी की बैठक में सदस्योंं द्वारा कई बार अतिक्रमण की समस्या से अधिकारियों को अवगत करवा चुके हैं। आमजन भी बार-बार फरियाद कर चुका है, लेकिन अधिकारी आश्वासन ही देते हैं। एक सप्ताह सीएलजी की बैठक में शहर में व्यापारियों को स्वेच्छा से अतिक्रमण हटाने के निर्देश दिए थे, लेकिन कार्रवाई नहीं की।
सड़क पर दुकानदारों का अतिक्रमण, जाम से राहगीर परेशान
दुकानदारों द्वारा दुकानों के आगे अतिक्रमण करके समान बेचा जा रहा है जिसके चलते राहगीरों को आने जाने में परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। ऐसी स्थिति में सुबह 10 बजे से लेकर शाम के 6 बजे तक बाजार की सड़क पर लोगों का चलना मुश्किल हो रहा है। कारण यह है कि बाजार के अंदर आने वाले ग्राहक अपने वाहनों को दुकान के सामने सड़क किनारे खड़ा करने के बाद खरीददारी में व्यस्त हो जाते हैं जिसके चलते सड़कों पर जाम की स्थिति बन जाती है। वहीं पैदल राहगीरों के अलावा दोपहिया और चौपहिया वाहन चालक भी जाम में फंसे रहते है।
अतिक्रमण की चपेट में बाजार
बताया जाता है कि अधिकारियों की अनदेखी के कारण पूरा बाजार अतिक्रमण की चपेट में है। छोटे दुकानदारों और ठेला वालों ने सड़क किनारे अतिक्रमण कर रखा है। शहर के सब्जी मण्डी, मुख्य बाजार, विवेकानंद सर्किल, पुराना बस स्टेण्ड, हाड़ेचा बस स्टेण्ड, चौधरी धर्मशाला, बड़सम बाईपास, रानीवाड़ा रोड़, न्यू बस स्टेण्ड रोड़, विश्नोई धर्मशाला आदि क्षेत्रों को अतिक्रमण की चपेट में ले लिया है।
पार्किंगविहीन प्रतिष्ठानों ने बिगाड़ी सूरत
शहर के ऐसा कोई भी कोना नहीं बचा है जहां पार्किंग विहीन व्यावसायिक प्रतिष्ठान न हो। वाहन पार्किंग का इंतजाम न होना एक बड़ी समस्या है। क्योंकि लोग वाहन लेकर बाजार में पहुंचते है और जिस दुकान में खरीददारी करनी होती है उसी के सामने अपने वाहनों को रखकर सामान की खरीदी शुरू कर देते है। खरीददारी में काफी समय लगता है। इस दौरान वाहन सड़क पर ही खड़ा रहता है। हर दुकान के सामने इसी तरह ढेरों वाहन खड़े रहते है। जिससे ट्रेफिक जाम की स्थिति निर्मित हो जाती है ऐसे में अन्य वाहनों को निकलना तो दूर की बात है लोगों को पैदल तक निकलने में काफी परेशानी होती है।
आंख मूंदे बैठे जिम्मेदार
शहर के बाजार में जाम की समस्या रहती है जिसके चलते राहगीरों को काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ता है। शहर के बाजार में ट्रैफिक पुलिस इस जाम की समस्या को कंट्रोल करने में नाकाम नजर आ रही है। शहर में बार-बार जाम की समस्या रहती है। जिसकी जानकारी जिम्मेदार अधिकारियों को भी है। इसके बावजूद भी इन रूटों पर ट्रैफिक कंट्रोल के उचित प्रबंध नहीं किए गए हैं।
-पैदल निकलना भी मुश्किल
शहर के बाजार अतिक्रमण की भेंट चढ़े हुए हैं। व्यापारियों के बढ़चढ़ कर अतिक्रमण करने से पैदल गुजरना मुश्किल हो गया है। अतिक्रमण हटाने को लेकर प्रशासन हर बार दिखावटी कार्रवाई करता है। इस पर कार्रवाई के दूसरे-तीसरे दिन ही व्यापारी फिर से अतिक्रमण करते हैं जिससे आमजन परेशान है। प्रशासन अविलम्ब अतिक्रमण हटाएं।
मांगीलाल देवासी, कालुराम
शहरवासी

किसान सम्मान निधि के तहत 30 नवम्बर तक आधार आधारित नाम का मिलान करवाना होगा

जालोर। प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजनान्तर्गत आधार आधारित नाम का मिलान 30 नवम्बर के पूर्व अनिवार्य रूप से करवाना होगा ताकि तृतीय किश्त का भुगतान कृषक को उनके बैंक खाते में सीधे ही हो सके। जिला कलक्टर महेन्द्र सोनी ने बताया कि प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि (पीएम किसान) योजनान्तर्गत आवेदन करने वाले कृषकों को भारत सरकार द्वारा देय तृतीय किश्त का भुगतान करने के लिए आधार आधारित नाम के मिलान में 30 नवम्बर तक शिथिलता प्रदान की है लेकिन इसकी अनिवार्यता 3 दिसम्बर से की गई है। इस सम्बन्ध में रजिस्ट्रार सहाकारी समितियाॅ राजस्थान सरकार जयपुर से प्राप्त निर्देशानुसार आधार आधारित नाम का मिलान पीएम किसान पोर्टल पर दर्ज नाम से कराने के लिए इस योजना का व्यापक प्रचार-प्रसार किया जाकर अधिक से अधिक कृषकों को लाभाविन्त करने एवं ब्लांक व ग्राम स्तर पर शिविर आयोजित कर आधार कार्ड में अंकित नाम अनुरूप पीएम किसान पोर्टल पर कृषक का नाम दर्ज ३० नवम्बर, २०१९ से पूर्व करवाने के लिए सभी तहसीलदारों एवं विकास अधिकारियों को निर्देश दियें गये है।
उन्होनें बताया कि भारत सरकार की इस महत्वपूर्ण योजना के सफल क्रियान्वयन के लिए प्रधान मंत्री किसान सम्मान निधि (पीएम किसान) योजनान्तर्गत आवेदन करने वाले समस्त कृषकों से आग्रह है कि वक्त आवेदन आवेदित के नाम का मिलान अपने आधार आधारित नाम से 30 नवम्बर से पूर्व करवाने के लिए सम्बन्धित क्षेत्र के पटवारी, भू.अभिलेख निरीक्षक, तहसीलदार, ग्राम विकास अधिकारी व विकास अधिकारी से अतिशीघ्र ही सम्पक करें। साथ ही बैंक आई.एफ.सी. कोड व बैंक खाता नम्बर का मिलान अपने नजदीकी ई-मित्र पर जाकर करायें तथा भामाशाह कार्ड से भी नाम सही करावें ताकि आगामी किश्त का भुगतान हो सकें।

निष्ठा प्रशिक्षण के तहत आयोजित पांच दिवसीय गैर आवासीय प्रशिक्षण शिविर का समापन

जालोर! निष्ठा प्रशिक्षण के तहत आयोजित पांच दिवसीय गैर आवासीय प्रशिक्षण शिविर के चतुर्थ चरण 19 नवम्बर से 23 नवम्बर तक माॅडयूल अनुसार विभिन्न गतिविधियों के माध्यम से संभागियों को दक्ष प्रशिक्षकों द्वारा प्रशिक्षण दिया गया। प्रशिक्षण के अन्तिम दिन मुख्य ब्लाॅक शिक्षा अधिकारी संतोष कुमार दवे ने संभागियों को सम्बोधित करते हुए प्रशिक्षण के दौरान प्राप्त शिक्षण कौशलों का उपयोग अपने अपने विद्यालय मे कर छात्रों को लाभान्वित करने की बात कही।
अतिरिक्त जिला शिक्षा अधिकारी प्रारम्भिक शिक्षा मुकेश कुमार सोलंकी ने कहा कि नवाचारों के माध्यम से शिक्षण करवाने तथा विद्यालयो मे आयोजित होने वाली सामुदायिक बाल सभाओं मे अधिकतम जन सहभागिता के लिये अभिभावकों को प्रेरित करे।अतिरिक्त जिला शिक्षा अधिकारी प्रारम्भिक शिक्षा नरेन्द्र कुमार परमार ने कहा कि आर टी ई अधिनियम एवं शाला दर्पण पोर्टल के सम्बंध मे जानकारी देकर समय समय पर पोर्टल को अपडेट करते रहे। इस अवसर पर संभागियों ने भी अपने उद्बोधन में पांच दिवसीय प्रशिक्षण मे प्राप्त अनुभवों को साझा किया। समापन सत्र मे आरपी कैलाशसिंह राजपुरोहित दक्ष प्रशिक्षक, मालाराम चैधरी, पकाराम, प्रमोद वैष्णव, राजवीर सिंह, उदाराम, कंचन गौड एवं समस्त संभागी उपस्थित थे।